Friday, February 28, 2014

Jaago Ab To Jaago - Press Conference 1/3

Asaram Ji Bapu Defamation Truth



16-11-2009 को अपलोड किया गया
It is clearly showing that Media is biased in reporting the news. It is tussle between media and public now. If person is on satya grah for 6 days and he got admitted to hospital in life and death situation, and no news channel covers this news nor even mention about sant sammelan or sting operation video.
asaram bapu, asaram, ashram, asaramji bapu, asharamji bapu, sant shri asaramji bapu, bapuji, asaram bapu ashram, asharamji, ashram.org, ashram bapu,satsang, bapu, bapu asaram, sant asharam bapu, asaramji ashram, sant asaram bapu,asaramji , asharamji,sanatan dharma, hinduism, asaram, asaramji bapu, sai, hariom, sant shri asramji bapu, asaramjibapu, asarambapu, hariom bapu, gurudev, kirtan, sureshanandji, sureshanand bapu, sadhak, ashram, gurukul, ahmedabad, hariombooks, hariomgroup, ashram.org, asarambapu sadhak, asaram bapu sadhak, new jersery ashram, Chicago, asaramji asharam, asharamji, ashram, ashramorg, bapu, bapuji, dharma, Hinduism, sanatan, satsang, asaram bapu satsang, asaramji bapu satsang,sureshanandji

The Condemned



26-01-2013 पर प्रकाशित
An old man. A young history. A haunting legacy of the Panjab Police's brutal regime of torture and death.

Written and Directed by Deep Hundal

Produced by the Canadian Sikh Coalition, Guru Nanak Mission Center, Sikh Organization for Prisoner Welfare.

http://singhsdoingthings.com/tagged/m...
https://twitter.com/Deep_Hundal

For more information, contact: deep.s.hundal@gmail.com

Wednesday, February 26, 2014

शोभा यात्रा में महिलायों ने भी बढ़चढ़ कर भाग लिया (+प्लेलिस्ट)

हर कोने से आयीं महिलाएं 
लुधियाना: (रेकटर कथूरिया//कैमरा-हरजस)इस बार भी शिव शंकर की विशाल शोभा यात्रा में महिला वर्ग ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया। लुधियाना के हर कोने से महिलाएं इस मौके पर सरे कामकाज छोड़ कर आयीं।

Tuesday, February 25, 2014

भगवान शिव के रंग में रंगा गया लुधियाना

Tue, Feb 25, 2014 at 5:48 PM
खूबसूरत झांकियों से बना भव्य धार्मिक माहौल 
लुधियाना: 25 फरवरी 2014: (रेकटर कथूरिया//कैमरा-हरजस//मोहनलाल):
लुधियाना लाख बड़ा शहर बन गया हो।  यहां की आबादी भी बहुत बढ़ गयी हो और इसे महानगर भी कहा जाता हो लेकिन यहाँ अभी भी सियासी गुटबंदियां आम चलती हैं।  समाजिक संगठन भी अपना अपना हिसाब रखते हैं लेकिन इस सबके बावजूद यहां  भी कुछ ऐसे ख़ास दिन आते हैं जब लोग सब गिले शिकवे भूलकर दिल से एक हो जाते हैं। इस तरह के उत्सवपूर्ण दिनों में ही एक दिन है महाशिवरात्री की शोभायात्रा का। इस शुभ अवसर पर लोग एक दुसरे से गले मिलते हैं साथ साथ चलते हैं और रंग जाते हैं प्रभु प्रेम के रंग में।  राजनीति से ऊपर उठकर वे कदम से कदम मिलाकर चलते हैं। 
आज मंगलवार को भी महाशिवरात्रि के उपलक्ष में एक  बहुत ही सुंदर शोभा यात्रा का आयोजन किया गया।  इस शोभा यात्रा में बहुत खूबसूरत झांकियां  आकर्षण  का केंद्र बनी रहीं। इन झांकियों में जहाँ भगवान् शिव शंकर जी व पार्वती देवी का रूप बनकर नृत्य कर रहे इन सौभागयशाली कलाकारों की सुंदरता देखते ही बनती थी वहीँ काली माता व राधा कृष्ण की लीलाएं भी इन झांकियों में बहुत ही ख़ूबसूरती से नज़र आ रही थी। प्रेम, सम्मान और श्रद्धा युक्त इस शोभायात्रा में देखने को मिली यादगारी झांकियां। इस शोभा यात्रा में शिव भगवान को चांदी के रथ पर सवार किया गया था इस शोभा यात्रा के आयोजक इलाका कौंसलर गुरदीप सिंह नीटू ने कहा कि 27 वी शोभा यात्रा हर साल की तरह इस बार भी महादेव मंदिर से शुरू हो कर शहर के प्रमुख बाजारो से होती हुई  वापस इसी मंदिर में सम्पन होगी।  इस शोभा यात्रा  में  श्रद्धालूयों ने भगवान् शिव शंकर की महिमा का बहुत जोशो खरोश और हर्षोउल्लास से गुणगान किया। 

GNG Girls College Model Town Ludhiana

Monday, February 24, 2014

पूनम माटिया की दिलकश आवाज़

एक यादगारी प्रस्तुति 

Courtesy:naresh matia//YouTube

मेडिकल कैम्प:जनसेवा का एक और प्रयास

करीब तीन सो लोगों ने उठाया फायदा 
लुधियाना: 23 फरवरी 2014 का दिन लुधियाना की नूरवाला रोड पर एक मेले का दिन था। नरेंद्र मोदी की रैली से पूरी तरह बेखबर ये लोग यहाँ आये थे अपने स्वास्थ्य को ठीक करने। इस मेडिकल कैम्प का आयोजन किया था जैन हैल्थ सेंटर ने। कैम्प के मुख्य डाकटर राहुल जैन ने बताया कि इस कैम्प में मोटापे और शूगर जैसी बिमारियों के साथ साथ हडडियों कि कमज़ोरी का भी पता लगाया गया। 
डाकटर राहुल जैन ने इस कैम्प के संबंध में मीडिया को भी संक्षिप्त शब्दों में जानकारी दी। 
इस शुभ अवसर पर कांग्रेस पार्टी के एक स्थानीय नेता विपन विनायक ने भी शुभ कामनाएं दी:
डाकटर राहुल जैन ने बताया कि इस कैम्प में आधुनिक मशीनों से मरीज़ों की जाँच की गयी तांकि उनका इलाज जल्द और अच्छी तरह से हो सके। 

कुल मिलाकर यह एक सफल कैम्प था जिस ने स्थानीय लोगों को बहुत सी राहत दी। उम्मीद है कि समाजिक संगठन इस तरह के आयोजन अन्य इलाकों में भी करवाते रहेंगे।  -पंजाब स्क्रीन टीम 

Sunday, February 23, 2014

तेरी आँख के आंसू पी जाऊं ऐसी मेरी तक़दीर कहाँ

Talat- Rajendar Krishan- Madan Mohan

तेरी आँख के आंसू पी जाऊं ऐसी मेरी तक़दीर कहाँ 
Courtesy:mastkalandr//YouTube
24-06-2011 को अपलोड किया गया   
Song :teri aankh ke aansoo pee jaon...
Movie: Jahan Ara (1964)
Music Director: Madan Mohan
Singer: Talat Mahmood
Lyrics: Rajendar Krishan
Picturized on: Mala Sinha, Bharat Bhushan,

Lyrics :-
teraa GamaKvaar huu.N lekin mai.n tujh tak aa nahii.n sakataa
mai.n apane naam terii bekasii likhavaa nahii.n sakataa

terii aa.Nkh ke aa.Nsuu pii jaauu.n aisii merii taqadiir kahaa.N
tere Gam me.n tujhako bahalaauu.n aisii merii taqadiir kahaa.N

ai kaash jo mil kar rote, kuchh dard to halake hote
bekaar na jaate aa.Nsuu, kuchh daaG jigar ke dhote
phir ra.nj na hotaa itanaa, hai tanahaaI me.n jitanaa
ab jaane ye rastaa Gam kaa, hai aur bhii lambaa kitanaa
haalaat kii ulajhan sulajhaauu.N aisii merii taqadiir kahaa.N
terii aa.Nkh ke aa.Nsuu pii jaauu.N

kyaa terii zulf kaa leharaa, hai ab tak vohii sunaharaa
kyaa ab tak tere dar pe, detii he.n havaae.n paharaa
lekin hai ye khaam-o-khayaalii, terii zulf banii hai savaalii
mohataaj hai ek kalii kii, ik roz thii phuulo.n vaalii
vo zulfe.n pareshaa.n mahakaauu.n aisii merii taqadiir kahaa.N
terii aa.Nkh ke aa.Nsuu pii jaauu.N..

MALA SINHA --
If anyone held the torch of the 'woman's picture' it was Mala Sinha. She refused to play inconsequential roles opposite the biggest of heroes and willingly acted with smaller names, provided her role was the pivot around which the film evolved. She turned down Ram aur Shyam (1967) opposite Dilip Kumar and acted opposite then-still upcoming actors like Dharmendra (Anpadh (1962)) and Manoj Kumar (Hariyali aur Rasta (1962)) where she carried these films entirely on her shoulders alone. And it is to her credit that she did have a career as leading lady lasting two decades.

She was born Alda Sinha in 1936. Noticed in a school play, she made her acting debut in a Bengali film Roshanara (1953). She then broke through first making a mark in 1954 with a supporting role in the Suchitra Sen starrer, Dhuli (1954). The same year also saw her make her Hindi debut with Amiya Chakravarty's Badshah (1954) supporting Usha Kiron, Pradeep Kumar and Ulhas. Though she got other offers like Kishore Sahu's Hamlet (1954), where incidentally she got the only positive review in the film from the hard-to-please Baburao Patel, she was going nowhere with mythologicals like Ekadashi (1955). Geeta Bali, spotting tremendous potential in her, took her under her wing and recommended her to Kidar Sharma who cast her in Rangeen Raten (1956) and groomed and polished her as well.
Mala became a star with Guru Dutt's Pyaasa (1957). Guru Dutt's masterpiece of a struggling poet in a materialistic world saw an extremely competent performance from Mala, in a role that originally Madhubala was to play, as Guru Dutt's college sweetheart who marries a big publishing baron opting for material comfort over love. It is generally rumored that her role was based on Guru Dutt's acquaintance, Sushila Rani Patel. Though having negative shades, Mala's role is frankly the more interesting role in the film as compared to Waheeda Rehman's standard prostitute-with-the-heart-of-gold role and ranks as one of her best ever performances.

Still, though well into her 30s, a dreaded age period for Hindi film heroines, she continued with leading roles into the 1970s pairing with the younger lot of heroes - Premendra (Holi Aayi re (1970), Sanjeev Kumar (Kangan (1971)), Rajesh Khanna (Maryada (1971)) and Amitabh Bachchan (Sanjog (1971)) but by now her career as a leading lady was in its last stages. Meanwhile, she had done a Nepali film Maiti Ghar opposite Nepali actor CP Lohani whom she married. The couple had a daughter, Pratibha.
Mala then made the switch to elderly and mother roles from the mid 1970s onwards. However all the roles she essayed in this period were largely undemanding ones that she did efficiently enough with her most memorable film in this period being Zindagi (1976) co-starring Sanjeev Kumar. She continued to be seen on the screen on and off with her last appearances being in Rakesh Roshan's Khel (1992) and Zid (1994).
Today Mala, a re-discovered Christian, lives contentedly in retirement in her sprawling bungalow in Bandra. Daughter Pratibha did try an acting career in Bollywood in the 1990s but couldn't make much headway.
Other well-known films of Mala Sinha include Detective (1958), Chandan (1958), Ujala (1959), Love Marriage (1959), Patang (1960), Maya (1961), Gyarah hazar Ladkiyan (1962), Dil Tera Deewana (1962), Apne Hue Paraye (1964), Mere Huzoor (1968), Geet (1970) and Lalkar (1972).

MERE SAHIB BY ASHA BHOSLE

FILM NANAK NAAM JAHAZ HAI [1969]



Courtesy:Ajay Yuvraj//YouTube

Purza Purza Kat Maray...Tamas(1987)



Courtesy:vinayak8ate//YouTube

29-12-2008 को अपलोड किया गया
A classic song from the lore of sikhism that was used in this film. Not once but twice. The second time it was used to more chilling effect.
More info about the film here:
http://8ate.blogspot.com/2008/12/revi...

Om Puri in opening scene from Tamas



24-12-2008 को अपलोड किया गया
Govind Nihalani's television film Tamas(1987) based on a Hindi novel of the same name and two other short stories ('Chief ki dawat' and 'Amritsar aa gaya hai'?) by acclaimed Hindi writer Bhisham Sahni(1974).

Great acting by Om Puri, non-linear story telling and implicit violence. The atmosphere and tone of the film was set by this opening scene of the film.
More about the film here:
http://8ate.blogspot.com/2008/12/revi...
-0-
You watch the entire film here:
http://video.google.com/videoplay?doc...
Thanks to the original uploader AG
http://www.arvindguptatoys.com/films....

Dr. Amarjit Singh on Narendar Modi's Jagraon Rally



Courtesy:TV84Channel//YouTube

16-12-2013 पर प्रकाशित
Dr. Amarjit Singh on Narendar Modi's Jagraon Rally & Sikh Protest

India Tv Exclusive : Indira Gandhi's last moments-3


Courtesy:IndiaTV//YouTube
30-10-2013 पर प्रकाशित
For more content go to http://http://www.indiatvnews.com/video/
Follow us on facebook at https://www.facebook.com/indiatvnws
Follow us on twitter at https://twitter.com/indiatvnews

Thursday, February 20, 2014

Voice of Urdu poet Kaifi Azmi on his immortal writing



19-02-2014 पर प्रकाशित
Sayyid Akhtar Hessein Rizvi better known as Kaifi Azmi was an Urdu poet. He is considered to be one of the greatest Urdu poets of 20th Century. He was born on January 14th, 1919, Azamgarh and passed away on May 10, 2002 in Mumbai. He was married to Ms. Shaukat Kaifi was the father of a very talented actress Ms. Shabana Azmi.

Wednesday, February 19, 2014

ਕਿਵੇਂ ਹਟਾਇਆ ਗਿਆ ਸੀ ਨਵੰਬਰ-84 ਦੇ ਕੇਸਾਂ ਚੋਂ ਸ੍ਰ. ਫੂਲਕਾ ਨੂੰ

ਇੱਕ ਇਤਿਹਾਸਿਕ ਟੀਵੀ ਇੰਟਰਵਿਊ 

How HS PHoolka was compelled to leave 84 case by Sarna (DSGMC)

साँप काटने का इलाज जरूर पढ़ें !

Aam Aadmi जहाँ भ्रष्टाचार फ़ैलाने वाले सांपों से दुखी और भयभीत है वहीँ वह अभी तक आम सांपों से भी उतना ही परेशान और चिंतित है। फिलहाल यहाँ आपको आम आदमी के सौंजन्य से बताया जा रहा है सांप काटे व्यक्ति को बचाने का आसान सा उपचार और भ्रष्टाचारी सांपों को काबू करने का अभियान अब देश भर में चल ही रहा है। -रेकटर कथूरिया 
Treatment of Snake Bite ( Cheap And Best ) By Rajiv Dixit
______________________________________
दोस्तो सबसे पहले साँपो के बारे मे एक महत्वपूर्ण बात आप ये जान लीजिये ! कि अपने देश भारत मे 550 किस्म के साँप है ! जैसे एक cobra है ,viper है ,karit है ! ऐसी 550 किस्म की साँपो की जातियाँ हैं ! इनमे से मुश्किल से 10 साँप है जो जहरीले है सिर्फ 10 ! बाकी सब non poisonous है! इसका मतलब ये हुआ 540 साँप ऐसे है जिनके काटने से आपको कुछ नहीं होगा !! बिलकुल चिंता मत करिए !

लेकिन साँप के काटने का डर इतना है (हाय साँप ने काट लिया ) और कि कई बार आदमी heart attack से मर जाता है !जहर से नहीं मरता cardiac arrest से मर जाता है ! तो डर इतना है मन मे ! तो ये डर निकलना चाहिए !
वो डर कैसे निकलेगा ????

दूसरा एक medicine आप चाहें तो हमेशा अपने घर मेजब आपको ये पता होगा कि 550 तरह के साँप है उनमे से सिर्फ 10 साँप जहरीले हैं ! जिनके काटने से कोई मरता है ! इनमे से जो सबसे जहरीला साँप है उसका नाम है !
russell viper ! उसके बाद है karit इसके बाद है viper और एक है cobra ! king cobra जिसको आप कहते है काला नाग !! ये 4 तो बहुत ही खतरनाक और जहरीले है इनमे से किसी ने काट लिया तो 99 % chances है कि death होगी !

लेकिन अगर आप थोड़ी होशियारी दिखाये तो आप रोगी को बचा सकते हैं
होशियारी क्या दिखनी है ???

आपने देखा होगा साँप जब भी काटता है तो उसके दो दाँत है जिनमे जहर है जो शरीर के मास के अंदर घुस जाते हैं ! और खून मे वो अपना जहर छोड़ देता है ! तो फिर ये जहर ऊपर की तरफ जाता है ! मान लीजिये हाथ पर साँप ने काट लिया तो फिर जहर दिल की तरफ जाएगा उसके बाद पूरे शरीर मे पहुंचेगा ! ऐसे ही अगर पैर पर काट लिया तो फिर ऊपर की और heart तक जाएगा और फिर पूरे शरीर मे पहुंचेगा ! कहीं भी काटेगा तो दिल तक जाएगा ! और पूरे मे खून मे पूरे शरीर मे उसे पहुँचने मे 3 घंटे लगेंगे !

मतलब ये है कि रोगी 3 घंटे तक तो नहीं ही मरेगा ! जब पूरे दिमाग के एक एक हिस्से मे बाकी सब जगह पर जहर पहुँच जाएगा तभी उसकी death होगी otherwise नहीं होगी ! तो 3 घंटे का time है रोगी को बचाने का और उस तीन घंटे मे अगर आप कुछ कर ले तो बहुत अच्छा है !

क्या कर सकते हैं ?? ???

घर मे कोई पुराना इंजेक्शन (injection) हो तो उसे ले और आगे जहां सुई(needle) लगी होती है वहाँ से काटे ! सुई(needle) जिस पलास्टिक मे फिट होती है उस प्लास्टिक वाले हिस्से को काटे !! जैसे ही आप सुई के पीछे लगे पलास्टिक वाले हिस्से को काटेंगे तो वो injection एक सक्षम पाईप की तरह हो जाएगा ! बिलकुल वैसा ही जैसा होली के दिनो मे बच्चो की पिचकारी होती है !

उसके बाद आप रोगी के शरीर पर जहां साँप ने काटा है वो निशान ढूँढे ! बिलकुल आसानी से मिल जाएगा क्यूंकि जहां साँप काटता है वहाँ कुछ सूजन आ जाती है और दो निशान जिन पर हल्का खून लगा होता है आपको मिल जाएँगे ! अब आपको वो injection( जिसका सुई वाला हिस्सा आपने काट दिया है) लेना है और उन दो निशान मे से पहले एक निशान पर रख कर उसको खीचना है ! जैसी आप निशान पर injection रखेंगे वो निशान पर चिपक जाएगा तो उसमे vacuum crate हो जाएगा ! और आप खींचेगे तो खून उस injection मे भर जाएगा ! बिलकुल वैसे ही जैसे बच्चे पिचकारी से पानी भरते हैं ! तो आप इंजेक्शन से खींचते रहिए !और आप first time निकलेंगे तो देखेंगे कि उस खून का रंग हल्का blackish होगा या dark होगा तो समझ लीजिये उसमे जहर मिक्स हो गया है !

तो जब तक वो dark और blackish रंग blood निकलता रहे आप खिंचीये ! तो वो सारा निकल आएगा ! क्यूंकि साँप जो काटता है उसमे जहर ज्यादा नहीं होता है 0.5 मिलीग्राम के आस पास होता है क्यूंकि इससे ज्यादा उसके दाँतो मे रह ही नहीं सकता ! तो 0.5 ,0.6 मिलीग्राम है दो तीन बार मे आपने खीच लिया तो बाहर आ जाएगा ! और जैसे ही बाहर आएगा आप देखेंगे कि रोगी मे कुछ बदलाव आ रहा है थोड़ी consciousness (चेतना) आ जाएगी ! साँप काटने से व्यकित unconsciousness हो जाता है या semi consciousness हो जाता है और जहर को बाहर खींचने से चेतना आ जाती है ! consciousness आ गई तो वो मरेगा नहीं ! तो ये आप उसके लिए first aid (प्राथमिक सहायता) कर सकते हैं !

इसी injection को आप बीच से कट कर दीजिये बिलकुल बीच कट कर दीजिये 50% इधर 50% उधर ! तो आगे का जो छेद है उसका आकार और बढ़ जाएगा और खून और जल्दी से उसमे भरेगा !
तो ये आप रोगी के लिए first aid (प्राथमिक सहायता) के लिए ये कर सकते हैं ! रख सकते हैं बहुत सस्ती है homeopathy मे आती है ! उसका नाम है NAJA (N A J A ) ! homeopathy medicine है किसी भी homeopathy shop मे आपको मिल जाएगी ! और इसकी potency है 200 ! आप दुकान पर जाकर कहें NAJA 200 देदो ! तो दुकानदार आपको दे देगा ! ये 5 मिलीलीटर आप घर मे खरीद कर रख लीजिएगा 100 लोगो की जान इससे बच जाएगी ! और इसकी कीमत सिर्फ पाँच रुपए है ! इसकी बोतल भी आती है 100 मिलीग्राम की 70 से 80 रुपए की उससे आप कम से कम 10000 लोगो की जान बचा सकते हैं जिनको साँप ने काटा है !

और ये जो medicine है NAJA ये दुनिया के सबसे खतरनाक साँप का ही poison है जिसको कहते है क्रैक ! इस साँप का poison दुनिया मे सबसे खराब माना जाता है ! इसके बारे मे कहते है अगर इसने किसी को काटा तो उसे भगवान ही बचा सकता है ! medicine भी वहाँ काम नहीं करती उसी का ये poison है लेकिन delusion form मे है तो घबराने की कोई बात नहीं ! आयुर्वेद का सिद्धांत आप जानते है लोहा लोहे को काटता है तो जब जहर चला जाता है शरीर के अंदर तो दूसरे साँप का जहर ही काम आता है !

तो ये NAJA 200 आप घर मे रख लीजिये !अब देनी कैसे है रोगी को वो आप जान लीजिये !
1 बूंद उसकी जीभ पर रखे और 10 मिनट बाद फिर 1 बूंद रखे और फिर 10 मिनट बाद 1 बूंद रखे !! 3 बार डाल के छोड़ दीजिये !बस इतना काफी है !

और राजीव भाई video मे बताते है कि ये दवा रोगी की जिंदगी को हमेशा हमेशा के लिए बचा लेगी ! और साँप काटने के एलोपेथी मे जो injection है वो आम अस्तप्तालों मे नहीं मिल पाते ! डाक्टर आपको कहेगा इस अस्तपाताल मे ले जाओ उसमे ले जाओ आदि आदि !!

और जो ये एलोपेथी वालो के पास injection है इसकी कीमत 10 से 15 हजार रुपए है ! और अगर मिल जाएँ तो डाक्टर एक साथ 8 से -10 injection ठोक देता है ! कभी कभी 15 तक ठोक देता है मतलब लाख-डेड लाख तो आपका एक बार मे साफ !! और यहाँ सिर्फ 10 रुपए की medicine से आप उसकी जान बचा सकते हैं !

और राजीव भाई इस video मे बताते है कि injection जितना effective है मैं इस दवा(NAJA) की गारंटी लेता हूँ ये दवा एलोपेथी के injection से 100 गुना (times) ज्यादा effective है !

तो अंत आप याद रखिए घर मे किसी को साँप काटे और अगर दवा(NAJA) घर मे न हो ! फटाफट कहीं से injection लेकर first aid (प्राथमिक सहायता) के लिए आप injection वाला उपाय शुरू करे ! और अगर दवा है तो फटाफट पहले दवा पिला दे और उधर से injection वाला उपचार भी करते रहे !
दवा injection वाले उपचार से ज्यादा जरूरी है !!
________________________________
तो ये जानकारी आप हमेशा याद रखे पता नहीं कब काम आ जाए हो सकता है आपके ही जीवन मे काम आ जाए ! या पड़ोसी के जीवन मे या किसी रिश्तेदार के काम आ जाए! तो first aid के लिए injection की सुई काटने वाला तरीका और ये NAJA 200 hoeopathy दवा ! 10 - 10 मिनट बाद 1 - 1 बूंद तीन बार
रोगी की जान बचा सकती है !!

आपने पूरी post पढ़ी बहुत बहुत धन्यवाद !!
यहाँ जरूर click करे !


वन्देमातरम !
अमर शहीद Rajiv Dixit जी की जय !!

सुखबीर सिंह बादल को एक सप्ताह का अल्टीमेटम

फूलका ने लगाई मीडिया के दरबार में गुहार 
लुधियाना से आम आदमी पार्टी के लोकसभा प्रत्याशी हरविंदर सिंह फूलका ने पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल को एक सप्ताह का अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने लुधियाना में एक पत्रकार सम्मेलन में कहा कि या  तो सुखबीर अपने आरोप साबित करें या फिर गद्दी छोड़ दें। श्री फूलका ने  इस मुद्दे को लेकर चार प्रमुख पत्रकारों को पत्र लिखने की भी घोषणा की है। इस विशेष पत्र में मांग की जा रही है वे इन आरोपों के संबंध में सुखबीर बादल से सबूतों की मांग करें और इसकी हकीकत अपने मीडिया के ज़रिये जनता के सामने लाएं। -
अब देखना यह है कि मीडिया पर बड़े बड़े लोगों का नियंत्रण है और उस नियंत्रण के चलते ऐसा कौन होगा जो अपने अपने आका को नाराज़ करके ऐसा सच तलाश करने की हिम्मत दिखाए जो सच उसके आका को ही नामंजूर हो। एक हफ्ते तक इसके स्प्ष्ट संकेत भी मिलने लगेंगे। 
रेकटर कथूरिया (पंजाब स्क्रीन) +91  98882 72025
Punjab Screen (Punjabi):                                Punjab Screen (Punjabi): 

Tuesday, February 18, 2014

Interview with Indira Gandhi by Chris Panos



Courtesy:Chris Panos//YouTube
24-01-2012 को अपलोड किया गया
India, Are you a Communist, She said, No... More Secrets

Saturday, February 15, 2014

Death anniversary मिर्ज़ा ग़ालिब--जो आज भी अपनी शायरी में ज़िंदा हैं

ये ना थी हमारी क़िस्मत के विसाल-ए-यार होता
अगर  और  जीते  रहते   यही   इंतेज़ार  होता

  
Courtesy:Ministry of Information & Broadcasting//YouTube
15-02-2014 पर प्रकाशित मिर्ज़ा ग़ालिब 
The 145th death anniversary of classical Urdu and Persian poet Mirza Asadullah Baig Khan Ghalib is being observed throughout country with tributes paid to his selfless contribution in the urdu literature.
Ghalib was born on December 27, 1796 in the city of Akbarabad (present Agra).
He was an all-time great classical Urdu and Persian poet.
He wrote several ghazals during his life, which have since been interpreted and sung in many different ways by different people.
कहूं किस से मैं के क्या है, शब-ए-ग़म बुरी बाला है
मुझे   क्या   बुरा   था   मरना ?  अगर  एक   बार  होता

विकिपीडिया के मुताबिक मिर्ज़ा असद-उल्लाह बेग ख़ां उर्फ “ग़ालिब” (27 दिसंबर 1796–15 फरवरी 1869) उर्दू एवं फ़ारसी भाषा के महान शायर थे। इनको उर्दू का सर्वकालिक महान शायर माना जाता है और फ़ारसी कविता के प्रवाह को हिन्दुस्तानी जबान में लोकप्रिय करवाने का भी श्रेय दिया जाता है । यद्दपि इससे पहले के वर्षो में मीर तक़ी मीर भी इसी वजह से जाने जाता है । ग़ालिब के लिखे पत्र, जो उस समय प्रकाशित नहीं हुए थे, को भी उर्दू लेखन का महत्वपूर्ण दस्तावेज़ माना जाता है। ग़ालिब को भारत और पाकिस्तान में एक महत्वपूर्ण कवि के रूप में जाना जाता है । उन्हे दबीर-उल-मुल्क और नज़्म-उद-दौला का खिताब मिला।
ग़ालिब (और असद) नाम से लिखने वाले मिर्ज़ा मुग़ल काल के आख़िरी शासक बहादुर शाह ज़फ़र के दरबारी कवि भी रहे थे । आगरा, दिल्ली और कलकत्ता में अपनी ज़िन्दगी गुजारने वाले ग़ालिब को मुख्यतः उनकी उर्जू ग़ज़लों को लिए याद किया जाता है । उन्होने अपने बारे में स्वयं लिखा था कि दुनिया में बहुत से कवि-शायर ज़रूर हैं, लेकिन उनका लहजा सबसे निराला है:
“हैं और भी दुनिया में सुख़न्वर बहुत अच्छे
कहते हैं कि ग़ालिब का है अन्दाज़-ए बयां और”
ग़ालिब का जन्म आगरा मे एक सैनिक पृष्ठभूमि वाले परिवार में हुआ था । उन्होने अपने पिता और चाचा को बचपन मे ही खो दिया था, ग़ालिब का जीवनयापन मूलत: अपने चाचा के मरणोपरांत मिलने वाले पेंशन से होता था (वो ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी मे सैन्य अधिकारी थे)। ग़ालिब की पृश्ठभूमि एक तुर्क परिवार से धी और इनके दादा मध्य एशिया के समरक़न्द से सन् 1750 के आसपास भारत आए थे । उनके दादा मिर्ज़ा क़ोबान बेग खान अहमद शाह के शासन काल में समरकंद से भारत आये। उन्होने दिल्ली, लाहौर व जयपुर मे काम किया और अन्ततः आगरा मे बस गये। उनके दो पुत्र व तीन पुत्रियां थी। मिर्ज़ा अब्दुल्ला बेग खान व मिर्ज़ा नसरुल्ला बेग खान उनके दो पुत्र थे।
मिर्ज़ा अब्दुल्ला बेग (गालिब के पिता) ने इज़्ज़त-उत-निसा बेगम से निकाह करने किया और अपने ससुर के घर मे रहने लगे। उन्होने पहले लखनऊ के नवाब और बाद मे हैदराबाद के निज़ाम के यहाँ काम किया। 1803 में अलवर में एक युद्ध में उनकी मृत्यु के समय गालिब मात्र 5 वर्ष के थे।
जब ग़ालिब छोटे थे तो एक नव-मुस्लिम-वर्तित ईरान से दिल्ली आए थे और उनके सान्निध्य में रहकर ग़ालिब ने फ़ारसी सीखी। 
हुए मर के हम जो रुसवा, हुए क्यों ना ग़र्क़-ए-दरिया
ना  कभी जनाज़ा  उठता, ना  कहीं  मज़ार होता

Monday, February 10, 2014

देश भर में बैंक हड़ताल से कामकाज ठप्प रहा Video

लुधियाना की विशाल रैली में भी बताये गए इस संघर्ष के कारण 
बैंकों कि दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल सोमवार 10 फरवरी 2014 को बहुत मुलाज़िमों के तीखे रोष के साथ शुरू हुई। मुलाज़िम हड़ताल की  शुरूआत जोशीली नारेबाज़ी से हुई जिससे पूरा इलाका गूँज उठा।
वीडियो देखें :

इस रोष भरी जोशीली नारेबाज़ी के साथ साथ मुलाज़िम नेतायों ने बताया कि यह हड़ताल किसी शौंक या मौजमस्ती के लिए  बल्कि दिल पर पत्थर रख कर की जा रही है और इसके लिए मुलाज़िमों ने बाकायदा दो दिनों की तनखाह कटवा कर पेड़ छुट्टी ली है। मुलाज़िम नेता कामरेड डीपी मौड़ ने इस संबंध में विस्तार से बताया। वीडियो देखें :

इस हड़ताल में जहाँ बैंक कर्मियों की मुश्किलों और समस्यायों का मसला उठा वहाँ अध्यापक संघर्ष में  14 माह की मासूम बच्ची की बात भी उठी।  मुलाज़िम नेता कामरेड सुदेश कुमार ने इस मुद्दे पर भी चर्चा की। वीडियो देखें:


कुल मिलाकर इस हड़ताल कि शुरूआत बहुत ही ज़ोरदार रही।  उम्मीद है कि हड़ताल का दूसरा दिन अर्थात मंगलवार 11 फरवरी इस से भी अधिक जोशीला होगा। --रेकटर कथूरिया 

देश भर में दो दिवसीय बैंक हड़ताल शुरू 

ਦੇਸ਼ ਭਰ ਦੇ ਬੈਂਕਾਂ ਵਿੱਚ ਦੋ ਦਿਨਾਂ ਹੜਤਾਲ ਸ਼ੁਰੂ


All India Bank Strike Started with rallies and dharnas